Aap Ki Khatir

आप की खातिर मेरे दिल का जहां है हाज़िर
आप की खातिर मेरे दिल का जहां है हाज़िर
अपने सारे अरमाँ...
अपने सारे अरमाँ कर दूँ मैं ज़ाहिर, कर दूँ मैं ज़ाहिर

आप की खातिर मेरे दिल का जहां है हाज़िर
अपने सारे अरमाँ कर दूँ मैं ज़ाहिर, कर दूँ मैं ज़ाहिर

इश्क़ भी क्या चीज़ है इसमें होश रहता नहीं
ये तो है सिलसिला चैन-ओ-सुकून का
दिल के जुनून का आखिरी

इश्क़ भी क्या चीज़ है इसमें होश रहता नहीं
ये तो है सिलसिला चैन-ओ-सुकून का
दिल के जुनून का आखिरी

आपकी बातों से, मुलाक़ातों से, खयालों से
हुआ मैं हुआ बड़ा ही मुतासिर

आप की खातिर मेरे दिल का जहां है हाज़िर
अपने सारे अरमाँ कर दूँ मैं ज़ाहिर, कर दूँ मैं ज़ाहिर

आप की (आप की)
आप की (आप की)
आप की (आप की)
आप की

कभी-कभी तो होती है
यहाँ मुक़म्मल आशिक़ी
कई करवटें लेगी ये जिंदगी
बदले ना नज़र आपकी

कभी-कभी तो होती है
यहाँ मुक़म्मल आशिक़ी
कई करवटें लेगी ये जिंदगी
बदले ना नज़र आपकी

आपको बताऊँ कैसे? यारा समझाऊँ कैसे?
साथ ऐसा मिलेगा ना फिर

आप की खातिर मेरे दिल का जहां है हाज़िर
अपने सारे अरमाँ कर दूँ मैं ज़ाहिर, कर दूँ मैं ज़ाहिर

आप की खातिर मेरे दिल का जहां है हाज़िर
अपने सारे अरमाँ कर दूँ मैं ज़ाहिर, कर दूँ मैं ज़ाहिर



Credits
Writer(s): Himesh Reshammiya
Lyrics powered by www.musixmatch.com

Link