Deewana Kar Raha Hai

तेरी बाहों में मिली ऐसी राहत सी मुझे
हो गयी जान-ए-जहां तेरी आदत सी मुझे
देखूँ मैं जब तुझको तो, तब मेरा दिन ये ढले

दीवाना कर रहा है तेरा रूप सुनेहरा
मुसलसल खल रहा है मुझको अब ये सहरा
बता अब जाएँ तो जाएँ कहाँ
दीवाना कर रहा है तेरा रूप सुनहरा
मुसलसल खल रहा है मुझको अब ये सहरा
बता अब जाएँ तो जाएँ कहाँ

दर्द का आलम है हरदम
तेरे बिन ओ मेरे हमदम
आँखों में दिखती है मायूसियाँ
जहाँ भी जाऊं तेरे बिन
बड़ी मुश्किल से गुज़रे दिन
चुभती है दिल को तेरी खामोशियाँ
राज़ गेहरा जो है तेरा
डर है कैसा तू है मेरा

दीवाना कर रहा है तेरा रूप सुनेहरा
मुसलसल खल रहा है मुझको अब ये सहरा
बता अब जाएँ तो, जाएँ कहाँ
दीवाना कर रहा है तेरा रूप सुनेहरा
मुसलसल खल रहा है मुझको अब ये सहरा
बता अब जाएँ तो, जाएँ कहाँ

धूल गए दिल के सारे ग़म
ख़ुशी से आँखें है ये नम
ज़िन्दगी में तू मेरी जब से आ गया
दिल का अरमान बना है तू
मेरी पहचान बना है तू
साँसों में रूह बन के तू समा गया
जान भी तेरी, दिल भी तेरा
तुझसे है मेरा सवेरा

दीवाना कर रहा है तेरा रूप सुनेहरा
मुसलसल खल रहा है मुझको अब ये सहरा
बता अब जाएँ तो जाएँ कहाँ
दीवाना कर रहा है तेरा रूप सुनेहरा
मुसलसल खल रहा है मुझको अब ये सहरा
बता अब जाएँ तो जाएँ कहाँ

बता अब जाएँ तो जाएँ कहाँ



Credits
Writer(s): Not Applicable, Rashid Khan
Lyrics powered by www.musixmatch.com

Link