Zindagi Se

ज़िंदगी से चुरा के, ज़िंदगी में बसा के
ज़िंदगानी बनाया है तुझे
रूठे रब को मना के, आसमाँ को झुका के
ज़िंदगानी बनाया है तुझे

तू मिला, जिस तरह सबा मिले
तू मिला, जिस तरह सिला मिले
तू मिला, जिस तरह दुआ मिले, बाखुदा

तू मिला तो जैसे मैं जी गया
तू मिला, मुक़म्मल मैं हो गया
तू मिला तो फैला है नूर सा, बाखुदा

ज़िंदगी से चुरा के, ज़िंदगी में बसा के
ज़िंदगानी बनाया है तुझे

महफ़ूज तू, महसूस कर, तेरे पास हूँ मैं सदा
तुझ से नहीं हो सकता मैं पल भर भी अब जुदा
अब साथ हैं हम इस तरह, आँखों के संग पलकें
आ, वक्त को ये बात हम एक बार फिर से कह दें

सारे ग़म से छुपा के, हर नज़र से बचा के
ज़िंदगानी बनाया है तुझे

तू मिला, जिस तरह सबा मिले
तू मिला, जिस तरह सिला मिले
तू मिला, जिस तरह दुआ मिले, बाखुदा

तू मिला तो जैसे मैं जी गया
तू मिला, मुक़म्मल मैं हो गया
तू मिला तो फैला है नूर सा, बाखुदा

बाँहों में आ, हो जाएँगे शिकवे सभी खुद फ़ना
होंठों से मैं तुझ को सुनूँ, आँखों से तू कुछ सुना
तू अक्स है, मैं आईना, फिर क्या है सोचना?
एक-दूसरे में खोके है एक-दूसरे को पाना

क़िस्मतों को जला के, हर जहाँ को हरा के
ज़िंदगानी बनाया है तुझे

तू मिला, जिस तरह सबा मिले
तू मिला, जिस तरह सिला मिले
तू मिला, जिस तरह दुआ मिले, बाखुदा

तू मिला तो जैसे मैं जी गया
तू मिला, मुक़म्मल मैं हो गया
तू मिला तो फैला है नूर सा, बाखुदा



Credits
Writer(s): Sanjay Masoom, Jeet Gannguli
Lyrics powered by www.musixmatch.com

Link