Samane Baithi Raho

सामने बैठी रहो दिल को क़रार आएगा
सामने बैठी रहो दिल को क़रार आएगा
बड़ा बेताब है थोडा तो संभल जाएगा

ऐसे ना देखो, सनम, मुझको शरम आती है
तेज़ धड़कन है, मेरी आँख झुकी जाती है
ऐसे ना देखो, सनम, मुझको शरम आती है

रोज आती हो मेरी जान चली जाती हो
आने-जाने में ही सब वक़्त गुज़र जाता है
हर जगह देखता रहता हूँ तुम्हारा चेहरा
मेरी नज़रों को ना कुछ और नज़र आता है

सामने बैठी रहो दिल को क़रार आएगा
बड़ा बेताब है थोडा तो संभल जाएगा
ऐसे ना देखो, सनम, मुझको शरम आती है

क्यूँ मेरे हुस्न की तारीफ़ किया करते हो?
हद से भी ज्यादा ना हो जाऊँ मैं मगरूर कहीं
ऐसे हालात में ना कोई ख़ता हो जाए
ऐसी बातों से ना हो जाऊँ मैं मजबूर कहीं

ऐसे ना देखो, सनम, मुझको शरम आती है
तेज़ धड़कन है, मेरी आँख झुकी जाती है
सामने बैठी रहो दिल को क़रार आएगा

तुम तो रहती हो सुबह-शाम मेरी यादों में
तुम मेरा दिल हो, मेरी जाँ हो, मेरी धड़कन हो
जिस हसीं डोर से हर साँस बंधी है मेरी
तुम मेरे प्यार का नाज़ुक सा वही बंधन हो

सामने बैठी रहो दिल को क़रार आएगा
सामने बैठी रहो दिल को क़रार आएगा
बड़ा बेताब है थोडा तो संभल जाएगा

ऐसे ना देखो, सनम, मुझको शरम आती है
तेज़ धडकन है, मेरी आँख झुकी जाती है
ऐसे ना देखो, सनम, मुझको शरम आती है



Credits
Writer(s): Sameer Lalji Anjaan, Jatin Lalit
Lyrics powered by www.musixmatch.com

Link