Main Zindagi Ka Saath Nibhata Chala Gaya (From "Hum Dono")

मैं ज़िंदगी का साथ निभाता चला गया
हर फ़िक्र को धुएँ में उड़ाता चला गया
हर फ़िक्र को धुएँ में उड़ा...

बरबादियों का सोग मनाना फ़ुज़ूल था
बरबादियों का सोग मनाना फ़ुज़ूल था
मनाना फ़ुज़ूल था, मनाना फ़ुज़ूल था

बरबादियों का जश्न मनाता चला गया
बरबादियों का जश्न मनाता चला गया
हर फ़िक्र को धुएँ में उड़ा...

जो मिल गया उसी को मुक़द्दर समझ लिया
जो मिल गया उसी को मुक़द्दर समझ लिया
मुक़द्दर समझ लिया, मुक़द्दर समझ लिया

जो खो गया मैं उस को भुलाता चला गया
जो खो गया मैं उस को भुलाता चला गया
हर फ़िक्र को धुएँ में उड़ा...

ग़म और ख़ुशी में फ़र्क़ ना महसूस हो जहाँ
ग़म और ख़ुशी में फ़र्क़ ना महसूस हो जहाँ
ना महसूस हो जहाँ, ना महसूस हो जहाँ

मैं दिल को उस मक़ाम पे लाता चला गया
मैं दिल को उस मक़ाम पे लाता चला गया
मैं ज़िंदगी का साथ निभाता चला गया
हर फ़िक्र को धुएँ में उड़ाता चला गया



Credits
Writer(s): Sahir Ludhianvi, Ludiavani Sahir, Jaidev Verma
Lyrics powered by www.musixmatch.com

Link