Darkhaast (from "Shivaay")

इस क़दर तू मुझे प्यार कर
जिसे कभी ना मैं सकूँ
फिर भुला
ज़िंदगी लाई हमे यहाँ
कोई इरादा तो रहा होगा भला
के दरखास्त है ये
जो आई रात है ये
तू मेरी बाहों में दुनिया भुला दे
जो अब लम्हात है ये
बड़े ही ख़ास है ये
तू मेरी बाहों में दुनिया भुला दे

के दरखास्त है ये
जो आई रात है ये
तू मेरी बाहों में दुनिया भुला दे
जो अब लम्हात है ये
बड़े ही ख़ास है ये
तू मेरी बाहों में दुनिया भुला दे

राहों में मेरे साथ चल तू
थामे मेरा हाथ चल तू
वक़्त जितना भी हो हासिल
सारा मेरे नाम कर तू
वक़्त जितना भी हो हासिल
सारा मेरे नाम कर तू
के अरमान है ये
गुज़ारिश जान है ये
तू मेरी बाहों में दुनिया भुला दे
जो अब लम्हात है ये (जो अब लम्हात है ये)
बड़े ही ख़ास है ये (बड़े ही ख़ास है ये)
तू मेरी बाहों में दुनिया भुला दे

लॅम्ज़ जिस्मों पे ऐसे सजाए
बारीशों से भी वो धुल ना पाए
तू मेरी बाहों में दुनिया भुला दे
हो, नक्श लम्हों पे ऐसे बनाए
मूद्तों से भी वो मिट ना पाए
तू मेरी बाहों में दुनिया भुला दे

हं, तुझसे तो हूँ मैं यूँ बहुत मुतास्सीर
पर क्या करूँ मैं हूँ एक मुसाफिर
कैसी खुशी है जिसमे नमी है
जाने तू ये या जाने ना, ओ
जो जज़्बात है ये (जो जज़्बात है ये)
बड़े ही पाक है ये (बड़े ही पाक है ये)
तू मेरी बाहों में दुनिया भुला दे
जो अब लम्हात है ये (जो अब लम्हात है ये)
बड़े ही ख़ास है ये (बड़े ही ख़ास है ये)
तू मेरी बाहों में दुनिया भुला दे

तू मेरी बाहों में दुनिया भुला दे
भुला दे, भुला दे
वो ओ, तू मेरी बाहों में दुनिया भुला दे
भुला दे, भुला दे, भुला दे

के दरखास्त है ये
जो आई रात है ये
तू मेरी बाहों में दुनिया भुला दे



Credits
Writer(s): Sayeed Quadri, Mithoon
Lyrics powered by www.musixmatch.com

Link