Phir Se

खिड़की पे आई हैं कुछ बारिशें
ओ-हो, भीगी सी लाई हैं संग ख़्वाहिशें
फिर से, फिर से

मौसम ने बेइरादा ली करवटें
Mmm-mmm
पानी में लहरों की बढ़ी हरकतें
फिर से, फिर से

कुछ आहट सी जब होती है
घबराहट सी फिर होती है
बिन बात के सिरहन सी कुछ होती है

हो, क्या मिलेंगी इस दिल को नई मंज़िलें?
Hmm-hmm
क्या सजेंगी दोबारा वही महफ़िलें?
फिर से (फिर से)

सपनो में किसी से मिलती हूँ
फिर देर से सो के उठती हूँ
दिन भर यूँ ही कुछ सोचता रहता हूँ

ये हवाएँ लाई हैं नई ख़्वाहिशें, ओ-हो
बढ़ती सी जा रही हैं मेरी हसरतें
फिर से (फिर से), फिर से

फिर से (फिर से), फिर से



Credits
Writer(s): Rashmi Virag
Lyrics powered by www.musixmatch.com

Link