Ho Jaa Awara

चढ़ी-चढ़ी ये साँसें हैं
धड़कनों की आवाज़ें हैं
जागे से है ये सारे लम्हें
तारे गिनने की रात है

हवायें क्या कहती है सुन
हाथ दे तू उड़ बेपरवाह

धारे सारे बहते, आ रे सारे कहते आ
हो जा आवारा
लम्हें लड़कर छीने, दम भर-भर कर जी ले आ
हो जा आवारा

धारे सारे बहते, आ रे सारे कहते आ
हो जा आवारा
लम्हें लड़कर छीने, दम भर-भर कर जी ले आ
हो जा आवारा

भेड़ों के मखमल सिरा है
खोले है जंगल भी बाहें
है नशों में जैसे बिजलीयाँ

भावना डालों के झूलें
आसमाँ पैरों से छुलें
बादलों में खोले खिड़कियाँ

जुगनुओं की तुम बारिश में
अँधेरों को घुल जाने दे

धारे सारे बहते, आ रे सारे कहते आ
हो जा आवारा
लम्हें लड़कर छीने, दम भर-भर कर जी ले आ
हो जा आवारा

पुल पे बाँधे तूफाँ, घुल के बनके तूफाँ आ
हो जा आवारा
दरिया जैसे शीशे, बह जा, आ के नीचे आ
हो जा आवारा

धारे सारे बहते, आ रे सारे कहते आ
हो जा आवारा
लम्हें लड़कर छीने, दम भर-भर कर जी ले आ
हो जा आवारा



Credits
Writer(s): Tanishk Bagchi, Siddharth Garima
Lyrics powered by www.musixmatch.com

Link