Hothon Se Chhu Lo Tum - From Prem Geet

होंठों से छू लो तुम
मेरा गीत अमर कर दो

होंठों से छू लो तुम
मेरा गीत अमर कर दो
बन जाओ मीत मेरे
मेरी प्रीत अमर कर दो

होंठों से छू लो तुम
मेरा गीत अमर कर दो

ना उम्र की सीमा हो
ना जन्म का हो बंधन

ना उम्र की सीमा हो
ना जन्म का हो बंधन

जब प्यार करे कोई
तो देखे केवल मन
नयी रीत चलाकर तुम
ये रीत अमर कर दो

नयी रीत चलाकर तुम
ये रीत अमर कर दो

आकाश का सूनापन
मेरे तन्हा मन में

आकाश का सूनापन
मेरे तन्हा मन में

पायल छनकाती तुम
आ जाओ जीवन में

सांसें देकर अपनी
संगीत अमर कर दो
संगीत अमर कर दो
मेरा गीत अमर कर दो

जग ने छीना मुझसे
मुझे जो भी लगा प्यारा

जग ने छीना मुझसे
मुझे जो भी लगा प्यारा
सब जीता किये मुझसे
मैं हरदम ही हारा

तुम हार के दिल अपना
मेरी जीत अमर कर दो
तुम हार के दिल अपना
मेरी जीत अमर कर दो

होंठों से छू लो तुम
मेरा गीत अमर कर दो



Credits
Writer(s): Shyamlal Harlal Rai Indivar, Jagjit Singh
Lyrics powered by www.musixmatch.com

Link