Rehnuma

وَتُعِزُ مَن تَشَاء، وَتُذِلُ مَن تَشَاء
وَتُعِزُ مَن تَشَاء، وَتُذِلُ مَن تَشَاء
وَتُعِزُ مَن تَشَاء، وَتُذِلُ مَن تَشَاء
وَتُعِزُ مَن تَشَاء، وَتُذِلُ مَن تَشَاء
وَتُعِزُ مَن تَشَاء، وَتُذِلُ مَن تَشَاء

इस ज़मीं से आसमाँ तक, तू ही तो सरकार है
इस ज़मीं से आसमाँ तक, तू ही तो सरकार है
हम गुनाहगारों की तू सुनले ये फ़रियाद है, सुनले ये फ़रियाद है

"या रहीम, या क़रीम
बन जा सबका रहनुमा, ज़ख़्मों को दे मरहम
और सुनले सब की तौबा, सुनले सबकी तौबा"
बन जा सबका रहनुमा, ज़ख़्मों को दे मरहम
और सुनले सब की तौबा, सुनले सबकी तौबा

وَتُعِزُ مَن تَشَاء، وَتُذِلُ مَن تَشَاء
وَتُعِزُ مَن تَشَاء، وَتُذِلُ مَن تَشَاء
وَتُعِزُ مَن تَشَاء، وَتُذِلُ مَن تَشَاء
وَتُعِزُ مَن تَشَاء، وَتُذِلُ مَن تَشَاء
وَتُعِزُ مَن تَشَاء، وَتُذِلُ مَن تَشَاء

तुझे सब पता है, जो है अपनी मुरादें
तुझे सब पता है, जो है अपनी मुरादें
झोलियाँ बसारे आएँ हैं दर पे तुम्हारे
झोलियाँ बसारे आएँ हैं दर पे तुम्हारे

माँगना भी आता नहीं, हम नादान है
माँगना भी आता नहीं, हम नादान है
और बिन माँगे जो दिया तेरा एहसान है, तेरा एहसान है

या रहीम, या क़रीम
बन जा सबका रहनुमा, ज़ख़्मों को दे मरहम
और सुनले सब की तौबा, सुनले सबकी तौबा
बन जा सबका रहनुमा, ज़ख़्मों को दे मरहम
और सुनले सब की तौबा, सुनले सबकी तौबा

या रहीम, या क़रीम
या रहीम, या क़रीम
या रहीम, या क़रीम
या रहीम, या क़रीम

या रहीम, या क़रीम
या रहीम, या क़रीम
या रहीम, या क़रीम
या रहीम, या क़रीम

शाह-ए-उम्भाव तेरे क़दमों के पीछे
शाह-ए-उम्भाव तेरे क़दमों के पीछे
चले जाएँ आँखें मीचे, हम ख़ुद को सींचे
चले जाएँ आँखें मीचे, हम ख़ुद को सींचे

तेरी ख़ुशियाँ, सरकार, फ़िक्र-ए-ख़ुदा है
तेरी ख़ुशियाँ, सरकार, फ़िक्र-ए-ख़ुदा है
सारी उम्मत, उम्मत तेरी सदा है, तेरी सदा है

या रहीम, या क़रीम
बन जा सबका रहनुमा, ज़ख़्मों को दे मरहम
और सुनले सब की तौबा, सुनले सबकी तौबा
बन जा सबका रहनुमा, ज़ख़्मों को दे मरहम
और सुनले सब की तौबा, सुनले सबकी तौबा

وَتُعِزُ مَن تَشَاء، وَتُذِلُ مَن تَشَاء
जिसको चाहे इज़्ज़त दे या चाहे तो ज़िल्लत दे
وَتُعِزُ مَن تَشَاء، وَتُذِلُ مَن تَشَاء
इज़्ज़त है तेरा तोहफ़ा, ज़िल्लत यानी तू ख़फ़ा
अपनों से इतना भला कोई रूठता है क्या?
मान जा मेरे रब्बा, मान जा मेरे रब्बा
मान जा मेरे रब्बा, दे रसूल का सदका

وَتُعِزُ مَن تَشَاء، وَتُذِلُ مَن تَشَاء
وَتُعِزُ مَن تَشَاء، وَتُذِلُ مَن تَشَاء
इज़्ज़त है तेरा तोहफ़ा, ज़िल्लत यानी तू ख़फ़ा
अपनों से इतना भला कोई रूठता है क्या?
मान जा मेरे रब्बा, दे रसूल का सदका



Credits
Writer(s): Abbas Tyrewala, A R Rahman
Lyrics powered by www.musixmatch.com

Link