Baatein Kuch Ankahee

बातें कुछ अनकही सी
कुछ अनसुनी सी, होने लगी
काबू दिल पे रहा ना
हस्ती हमारी खोने लगी

शायद यही है प्यार

बातें कुछ अनकही सी
कुछ अनसुनी सी, होने लगी
काबू दिल पे रहा ना
हस्ती हमारी खोने लगी

शायद यही है प्यार
शायद यही है प्यार

कह दे मुझसे दिल में क्या है
ऐसा भी क्या गुरूर
तुझको भी तो हो रहा है
थोड़ा असर ज़रूर
ये खामोशी जीने ना दे
कोई तो बात हो

शायद यही है प्यार
शायद यही है प्यार

तू ही मेरी रोशनी है
तू ही चिराग है
धीरे-धीरे मिट जाएगा
हल्का सा दाग है
ये ज़हर भी यूँ पीया है
जैसे शराब हो

शायद यही है प्यार
बातें कुछ अनकही सी
कुछ अनसुनी सी, होने लगी
काबू दिल पे रहा ना
हस्ती हमारी खोने लगी

शायद यही है प्यार
शायद यही है प्यार
शायद यही है प्यार



Credits
Writer(s): Pritam Chakraborty, Sandeep Srivastava
Lyrics powered by www.musixmatch.com

Link