Hum To Bhai Jaise Hain

हम तो भाई जैसे हैं, वैसे रहेंगे

हम तो भाई जैसे हैं, वैसे रहेंगे
हम तो भाई जैसे हैं, वैसे रहेंगे
अब कोई खुश हो या हो खफ़ा
हम नहीं बदलेंगे अपनी अदा
समझे ना समझे कोई हम यही कहेंगे

हम तो भाई जैसे हैं, वैसे रहेंगे
हम तो भाई जैसे हैं, वैसे रहेंगे

Hmm, हम दिल की शहज़ादी है, मर्ज़ी की मलिका
हाँ, हम दिल की शहज़ादी है, मर्ज़ी की मालिका
सर पे आँचल क्यूँ रखे? ढलखा तो ढलता
अब कोई खुश हो या कोई रूठे
इस बात पर चाहे हर बातें टूटे

हम तो भाई जैसे हैं, वैसे रहेंगे
हम तो भाई जैसे हैं, वैसे रहेंगे

हमें शौक़ मेहँदी का ना शहनाई का है
हो, हमें शौक़ मेहँदी का ना शहनाई का है
हमारे लिए तो अपना घर ही भला है
सुनता अगर हो तो सुन ले क़ाज़ी
लगता नहीं कभी हम होंगे राज़ी

हम तो भाई जैसे हैं, वैसे रहेंगे
हम तो भाई जैसे हैं, वैसे रहेंगे
अब कोई खुश हो या हो खफ़ा
हम नहीं बदलेंगे अपनी अदा
समझे ना समझे कोई हम यही कहेंगे

हम तो भाई जैसे हैं, वैसे रहेंगे
हम तो भाई जैसे हैं, वैसे रहेंगे



Credits
Writer(s): Akhtar Javed, Madan Mohan
Lyrics powered by www.musixmatch.com

Link