Ek Charraiya

एक चिरैया घोंसले को छोड़ उड़ उड़ जाए
और ये सोचे काश ऐसा हो कदम मुड़ जाए

एक चिरैया घोंसले को छोड़ उड़ उड़ जाए
और ये सोचे काश ऐसा हो कदम मुड़ जाए
तिनका-तिनका कर बटोरा और बनाया घर
पर समय की बारिशों ने कर दिया बेघर
कर दिया बेघर
कर दिया बेघर

ओ मुसाफिर धीर धर
आएगा सूरज इधर
काहे भागे, काहे भागे
दूर जितना जाएगा
लौट फिर ना पाएगा
काहे भागे, काहे भागे

एक चिरैया को पराया देस कैसे भाए
गांव का पीपल पुराना याद उसको आए
तिनका-तिनका कर बटोरा और बनाया घर
पर समय की बारिशों ने कर दिया बेघर
कर दिया बेघर
कर दिया बेघर

ये जो आंसुओं की लड़ी
बेह रही है हर घड़ी
तेरे आगे, तेरे आगे
याद रख हर मोड़ पर
एक नयी सुबह खड़ी
काहे भागे, काहे भागे

इक चिरैया आंसुओं से लड़ झगड़ सो जाए
राह पथरीली है लेकिन हौसला ना जाए
तिनका-तिनका कर बटोरा और बनाया घर
पर समय की बारिशों ने कर दिया बेघर
कर दिया बेघर
कर दिया बेघर



Credits
Writer(s): Jeet Ganguly, Rashmi Singh
Lyrics powered by www.musixmatch.com

Link