Janam Janam

जनम जनम जनम साथ चलना यूँही
कसम तुम्हे कसम आके मिलना यहीं
एक जान है भले दो बदन हो जुदा
मेरी होके हमेशा ही रहना
कभी ना केहना अलविदा

मेरी सुबह हो तुम्ही और तुम्ही शाम हो
तुम दर्द हो तुम ही आराम हो
मेरी दुआओं से आती है बस ये सदा
मेरी होके हमेशा ही रेहना
कभी ना केहना अलविदा

मेरी होके हमेशा ही रेहना
कभी ना केहना अलविदा

तेरी बाहों में है मेरे दोनो जहाँ
तू रहे जिधर मेरी जन्नत वहीं
जल रही अगन है जो ये दो तरफ़ा
ना बुझे कभी मेरी मन्नत यही
तू मेरी आरज़ू, मैं तेरी आशिकी
तू मेरी शायरी, मैं तेरी मोसकी

तलब तलब तलब बस तेरी है मुझे
नसों में तू नशा बनके घुलना यूँही
मेरी मोहब्बत का करना तू हक़ ये अदा
मेरी होके हमेशा ही रेहाना
कभी ना केहना अलविदा

मेरी सुबह हो तुम्ही और तुम्ही शाम हो
तुम दर्द हो, तुम ही आराम हो
मेरी दुआओं से आती है बस ये सदा
मेरी होके हमेशा ही रेहना
कभी ना कहना अलविदा
आ अलविदा



Credits
Writer(s): Pritam Chakraborty, Amitabh Bhattacharya
Lyrics powered by www.musixmatch.com

Link