Tu Hi Meri Shab Hai

तू ही मेरी शब है सुबह है
है तू ही दिन है मेरा
तू ही मेरा रब है जहां है
तू ही मेरी दुनिया
तू वक़्त मेरे लिए
मैं हूँ तेरा लम्हा
कैसे रहेगा भले
हो के तू मुझ से जुदा
ओ ओ ओ ओ हो हो
ओ ओ ओ ओ ओ ओ
तू ही मेरी शब है सुबह
है तू ही दिन है मेरा

तू ही मेरा रब है जहां है
है तू ही मेरी दुनिया
तू वक़्त मेरे लिए
मैं हूँ तेरा लम्हा
कैसे रहेगा भले
हो के तू मुझ से जुदा

ओ ओ ओ ओ हो हो
ओ ओ ओ ओ ओ ओ

आँखों से पढ़ के तुझे
दिल पे मैंने लिखा
तू बन गया है मेरे
जीने की एक वजह

हो आँखों से पढ़ के तुझे
दिल पे मैंने लिखा
तू बन गया है मेरे
जीने की एक वजह
तेरी हँसी तेरी अदा

औरों से है बिलकुल जुदा
ओ ओ ओ ओ हो हो
ओ ओ ओ ओ ओ ओ

आँखें तेरी शबनमी
चेहरा तेरा आइना
तू है उदासी भरी
कोई हसीं दास्ताँ
हो आँखें तेरी शबनमी
चेहरा तेरा आइना
तू है उदासी भरी
कोई हसीं दास्ताँ
दिल में है क्या
कुछ तो बता
क्यूं है भला ख़ुद से ख़फ़ा
ओ ओ ओ ओ हो हो
ओ ओ ओ ओ ओ ओ

तू ही मेरी शब है सुबह है
है तू ही दिन है मेरा
तू ही मेरा रब है जहां है
तू ही मेरी दुनिया
तू वक़्त मेरे लिए
मैं हूँ तेरा लम्हा
कैसे रहेगा भले
हो के तू मुझसे जुदा
ओ ओ ओ ओ हो हो
ओ ओ ओ ओ ओ ओ



Credits
Writer(s): Sayeed Quadri, Pritaam Chakraborty
Lyrics powered by www.musixmatch.com

Link