Badalon Mein Chhup Raha Chand

बादलों में छुप रहा है चाँद क्यों
अपने हुस्न की ज़या से पूछ लो
चांदनी पड़ी हुई है मांद क्यों
अपनी ही किसी अदा से पूछ लो

बादलों में छुप रहा है चाँद क्यों
अपने हुस्न की ज़या से पूछ लो
चांदनी पड़ी हुई है मांद क्यों
अपनी ही किसी अदा से पूछ लो

मेरी हसरतों पे बेख़ुदी सी छा गयी
तुमको देख कर निगाह लड़खड़ा गयी
मेरी हसरतों पे बेखुदी सी छा गयी
तुमको देख कर निगाह लड़खड़ा गयी
निगाह लड़खड़ा गयी
निगाह लड़खड़ा गयी
निगाह लड़खड़ा गयी
हो रहा हूँ मैं नशे में चूर क्यों
झूमती हुई फज़ा से पूछ लो
हो रहा है बे पिए सुरूर क्यों
मेरी ज़ुल्फ की घटा से पूछ लो

बादलों में छुप रहा है चाँद क्यों
अपने हुस्न की ज़या से पूछ लो
चांदनी पड़ी हुई है मांद क्यों
अपनी ही किसी अदा से पूछ लो

दूर मुझसे ग़म है और खुशी करीब है
आज मेरा प्यार कितना खुशनसीब है
दूर मुझसे ग़म है और खुशी करीब है
आज मेरा प्यार कितना खुशनसीब है
कितना खुशनसीब है
कितना खुशनसीब है
कितना खुशनसीब है
झूमता है मेरा अंग अंग क्यों
अपने रूह की सदा से पूछ लो
बज रहे है दिल में जल तरंग क्यों
गीत छेड़ती हवा से पूछ लो

बादलों में छुप रहा है चाँद क्यों
अपने हुस्न की ज़या से पूछ लो
चांदनी पड़ी हुई है मांद क्यों
अपनी ही किसी अदा से पूछ लो



Credits
Writer(s): Anu Malik, Qatil Shifai
Lyrics powered by www.musixmatch.com

Link