Achha Lagta Hai (From "Aarakshan")

झटक कर ज़ुल्फ़ जब तुम तौलिए से
बारिशें आज़ाद करती हो, अच्छा लगता है
हिला कर होंठ जब भी हौले-हौले
गुफ़्तगु को साज़ करती हो, अच्छा लगता है

हो, खुशबू से बेहलाओ ना
सीधे point पे आओ ना
आँख में आँखें डाल के कह दो
"ख़्वाबों में टहलाओ ना"

ज़रा short में बतलाओ ना
सीधे point पे आओ ना
सीधे point पे आओ ना

अलग एहसास होता है तुम्हारे पास होने का
सरकती सरसराहट की नदी में रेशमी लम्हें भिगोने का

ओ-हो-हो, ज़रा सा मोड़ कर गर्दन
जब अपनी ही अदा पे नाज़ करती हो, अच्छा लगता है

ओ लफ़्ज़ों से बहलाओ ना
झूटी-मूटी बहकाओ ना
हाथों को हाथों में ले के
वो तीन शब्द टपकाओ ना

ज़रा short में बतलाओ ना
सीधे point पे आओ ना
हाँ, सीधे point पे आओ ना

वो तेरे ध्यान की खुशबू मैं सर तक ओढ़ लेता हूँ
भटकती साँस को तेरी गली में गुनगुनाने छोड़ देता हूँ

हो-हो-हो, तुम अपनी खिड़कियों को खोल कर
जब भी नए आग़ाज़ करती हो, अच्छा लगता है

हो, गली-गली, गली-गली, गली-गली भटकाओ ना
घड़ी-घड़ी उलझाओ ना
Senti हो मैं जान गई हूँ
Action भी दिखलाओ ना

ज़रा short में बतलाओ ना
सीधे point पे आओ ना
ओ, सीधे point पे आओ ना (अच्छा)
ओ, सीधे, ओ सीधे, ओ सीधे point पे आओ ना



Credits
Writer(s): Shankar Mahadevan, Aloyius Peter Mendonsa, Ehsaan Noorani, Prasoon Joshi
Lyrics powered by www.musixmatch.com

Link