Zinda (From "Bhaag Milkha Bhaag")

ज़िन्दा, है तो, प्याला, पूरा भर ले
कंचा, फूटे, चूरा, कांच कर ले

ज़िन्दगी का ये घड़ा ले, एक सांस में चढा ले
हिचकियों में क्या है मरना पूरा मर ले
कोयला काला है, चट्टानों ने पाला है
अंदर काला बाहर काला पर सच्चा है, साला
कोयला काला है, चट्टानों ने पाला है
अंदर काला बाहर काला पर सच्चा है, साला

ज़िन्दा, है तो, प्याला, पूरा भर ले
कंचा, फूटे, चूरा, कांच कर ले
कंचा, फूटे, चूरा, कांच कर ले

उलझे क्यूं पैरो में ये ख्वाब
कदमों से रेशम खींच दे
पीछे कुछ ना आगे का हिसाब
इस पल की क्यारी सींच दे
आँख ज़ुबान पे रखदे, फिर चोट के होंठ भिगाएंगे
घाव गुनगुनाएंगे, तेरे दर्द गीत बन जाएंगे
ज़िन्दा, है तो, प्याला, पूरा भर ले
कंचा, फूटे, चूरा, कांच कर ले

ज़िन्दगी का ये घड़ा ले, एक सांस में चढा ले
हिचकियों में क्या है मरना पूरा मर ले
कोयला काला है, चट्टानों ने पाला है
अंदर काला बाहर काला पर सच्चा है, साला
कोयला काला है, चट्टानों ने पाला है
अंदर काला बाहर काला पर सच्चा है, साला
कोयला काला है, चट्टानों ने पाला है
अंदर काला बाहर काला पर सच्चा है, साला
कोयला काला है, चट्टानों ने पाला है
अंदर काला बाहर काला पर सच्चा है, साला
ज़िन्दा



Credits
Writer(s): Shankar Mahadevan, Ehsaan Noorani, Prasoon Joshi, Aloysuis Peter Mendonsa
Lyrics powered by www.musixmatch.com

Link