Raat Shabnami

रात शबनमी, भीगी चाँदनी
तीसरा कोई, दूर तक नहीं
इसके आगे हम, और क्या कहें?
जानम समझा करो

रात शबनमी, भीगी चाँदनी
तीसरा कोई, दूर तक नहीं
इसके आगे हम, और क्या कहें?
जानम समझा करो

हो, इसके आगे हम, और क्या कहें?
जानम समझा करो

सनम तुमको जिस दिन से देखा हमने
दीवाना दिल काबू में नहीं
बड़ा प्यारा ये भी इतेफ़ाक देखो
तुम ही मिल जाते हो हर कहीं
तुम ही मिल जाते हो हर कहीं प्यारे
आगे खुद ही जान लो, और क्या कहें?
जानम समझा करो

रात शबनमी, भीगी चाँदनी
तीसरा कोई, दूर तक नहीं
इसके आगे हम, और क्या कहें?
जानम समझा करो
हो, इसके आगे हम, और क्या कहें?
जानम समझा करो

अगर तुम भी वो चाहो जो मैं चाहूँ
तो गुल खिल जाए इक़रार का
दिलों को मिलने दे कुछ ना बोले हम
मज़ा आए फिर तो प्यार का
मज़ा आए फिर तो प्यार का जानी
आगे खुद ही जान लो, और क्या कहें?
जानम समझा करो

रात शबनमी, भीगी चाँदनी
तीसरा कोई, दूर तक नहीं
इसके आगे हम, और क्या कहें?
जानम समझा करो
हो, इसके आगे हम, और क्या कहें?
जानम समझा करो

ठहरो पड़ी है रात ये सारी
काहे की जल्दी जानेमन
डाले हुए ये रेशमी बाहें
यू ही लिपटे रहो तुम गुलबदन
तक़दीर से यह मिल गया मौका
आगे खुद ही जान लो, और क्या कहें?
जानम समझा करो

रात शबनमी, भीगी चाँदनी
तीसरा कोई, दूर तक नहीं
इसके आगे हम, और क्या कहें?
जानम समझा करो

रात शबनमी, भीगी चाँदनी
तीसरा कोई, दूर तक नहीं
इसके आगे हम, और क्या कहें?
जानम समझा करो
हो, इसके आगे हम, और क्या कहें?
जानम समझा करो
हो, इसके आगे हम, और क्या कहें?
जानम समझा करो



Credits
Writer(s): Majrooh Sultanpurt, Leslie Lezz Lewis
Lyrics powered by www.musixmatch.com

Link