Dil Ibaadat (From "Tum Mile")

दिल इबादत कर रहा है, धड़कने मेरी सुन
तुझ को मैं कर लूँ हासिल, लगी है यही धुन
ज़िंदगी की शाक से लूँ कुछ हसीं पल मैं चुन
तुझ को मैं कर लूँ हासिल, लगी है यही धुन

दिल इबादत कर रहा है, धड़कने मेरी सुन
तुझ को मैं कर लूँ हासिल, लगी है यही धुन
ज़िंदगी की शाक से लूँ कुछ हसीं पल मैं चुन
तुझ को मैं कर लूँ हासिल, लगी है यही धुन

जो भी जितने पल जियूँ उन्हें तेरे संग जियूँ
जो भी कल हो अब मेरा उसे तेरे संग जियूँ
जो भी साँसें मैं भरूँ उन्हें तेरे संग भरूँ
चाहे जो हो रास्ता उसे तेरे संग चलूँ

दिल इबादत कर रहा है, धड़कने मेरी सुन
तुझ को मैं कर लूँ हासिल, लगी है यही धुन

मुझ को दे तू मिट जाने, अब खुद से दिल मिल जाने
क्यूँ है ये इतना फ़ासला?
लम्हे ये फिर ना आने, इनको तू ना दे जाने
तू मुझ पे खुद को दे लुटा

तुझे तुझ से तोड़ लूँ, कहीं खुद से जोड़ लूँ
मेरे जिस्म-ओ-जाँ में आ, तेरी खुशबू ओढ़ लूँ
जो भी साँसें मैं भरूँ उन्हें तेरे संग भरूँ
चाहे जो हो रास्ता उसे तेरे संग चलूँ

दिल इबादत कर रहा है, धड़कने मेरी सुन
तुझ को मैं कर लूँ हासिल, लगी है यही धुन

बाँहों में दे बस जाने, सीने में दे छुप जाने
तुझ बिन मैं जाऊँ तो कहाँ?
तुझ से है मुझ को पाने यादों के वो नज़राने
एक जिन पे हक़ हो बस मेरा

तेरी यादों में रहूँ, तेरे ख़ाबों में जगूँ
मुझे ढूँढे जब कोई, तेरी आँखों में मिलूँ
जो भी साँसें मैं भरूँ उन्हें तेरे संग भरूँ
चाहे जो हो रास्ता उसे तेरे संग चलूँ

दिल इबादत कर रहा है, धड़कने मेरी सुन
तुझ को मैं कर लूँ हासिल, लगी है यही धुन



Credits
Writer(s): Chakraborty Pritaam, Quadri Sayeed
Lyrics powered by www.musixmatch.com

Link