Mere Khwabon Mein

मेरे ख़्वाबों में जो आए
आके मुझे छेड़ जाए
मेरे ख़्वाबों में जो आए
आके मुझे छेड़ जाए
उससे कहो कभी सामने तो आए
मेरे ख़्वाबों में जो आए
आके मुझे छेड़ जाए
उससे कहो कभी सामने तो आए
मेरे ख़्वाबों में जो आए

कैसा है, कौन है वो, जाने कहाँ है?
हो, कैसा है, कौन है वो, जाने कहाँ है?
जिसके लिए मेरे होंठों पे हाँ है
अपना है या बेगाना है वो?
सच है या कोई अफ़साना है वो?
देखे घूर-घूर के
यूँ ही दूर-दूर से
उससे कहो मेरी नींद न चुराए

मेरे ख़्वाबों में जो आए
आके मुझे छेड़ जाए
उससे कहो कभी सामने तो आए
मेरे ख़्वाबों में जो आए

जादू सा जैसे कोई चलने लगा है
हो, जादू सा जैसे कोई चलने लगा है
मैं क्या करूँ दिल मचलने लगा है
तेरा दीवाना हूँ, कहता है वो
छुप-छुप के फिर क्यूं रहता है वो
कर बैठा भूल वो
ले आया फूल वो
उससे कहो जाए चाँद लेके आए

मेरे ख़्वाबों में जो आए
आके मुझे छेड़ जाए
मेरे ख़्वाबों में जो आए
आके मुझे छेड़ जाए
उससे कहो कभी सामने तो आए

ला ला, ला ला ला ला ला, ला
ला ला, ला ला ला ला ला, आ, आ



Credits
Writer(s): Anand Bakshi, Jatin Lalit
Lyrics powered by www.musixmatch.com

Link