Ae Kash Ke Hum

ऐ, काश कि हम होश में अब आने ना पाए
ऐ, काश कि हम होश में अब आने ना पाए
बस नग़में तेरे प्यार के गाते ही जाए
ऐ, काश कि हम होश में अब आने ना पाए
ऐ, काश कि हम होश में अब आने ना पाए

खिलती-महकती ये ज़ुल्फ़ों की शाम
हँसते-खनकते ये होंठों के जाम
खिलती-महकती ये ज़ुल्फ़ों की शाम
हँसते-खनकते ये होंठों के जाम

आ झूम के साज़ उठाए
बस नग़में तेरे प्यार के गाते ही जाए
ऐ, काश कि हम होश में अब आने ना पाए
बस नग़में तेरे प्यार के गाते ही जाए
ऐ, काश कि हम होश में अब आने ना पाए

हो बस अगर तुम हमारे सनम
हम तो सितारों पे रख दे क़दम
हो बस अगर तुम हमारे सनम
हम तो सितारों पे रख दे क़दम

सारा जहाँ भूल जाए
बस नग़में तेरे प्यार के गाते ही जाए
ऐ, काश कि हम होश में अब आने ना पाए
ऐ, काश कि हम होश में अब आने ना पाए

बस नग़में तेरे प्यार के गाते ही जाए
ऐ, काश कि हम होश में अब आने ना पाए
ऐ, काश कि हम होश में अब आने ना पाए



Credits
Writer(s): Lalitraj Pandit, Jatin Pandit, Majrooh Sultanpuri
Lyrics powered by www.musixmatch.com

Link