Teri Yaadon Mein

फिरता रहूँ दर-बदर
मिलता नहीं तेरा निशाँ
होके जुदा कब मैं जिया?
तू है कहाँ, मैं कहाँ

तेरी यादों में खोया रहता हूँ
मुझको डसती है तनहाईयाँ

फिरता रहूँ दर-बदर
मिलता नहीं तेरा निशाँ
होके जुदा कब मैं जिया
तू है कहाँ, मैं कहाँ

तू जो जुदा हो गई
तेरी सदा खो गई
देख ले फिर ज़िन्दगी
हाँ, क्या से क्या हो गई

जब से बिछड़ी हूँ
रब से कहती हूँ
"कितना सूना है तेरा जहाँ"

फिरता रहूँ दर-बदर
मिलता नहीं तेरा निशाँ
होके जुदा कब मैं जिया?
तू है कहाँ, मैं कहाँ

कैसे कटे ज़िन्दगी?
मायूसियाँ, बेबसी
राहें सभी खो गई
रोशनी दे, रोशनी

मैं तो रहती हूँ तेरी राहों में
बेखबर, मुझको ढूँढे कहाँ?

फिरता रहूँ दर-बदर
मिलता नहीं तेरा निशाँ
होके जुदा कब मैं जिया
तू है कहाँ, मैं कहाँ

तेरी यादों में खोया रहता हूँ
मुझको डसती है तनहाईयाँ



Credits
Writer(s): Sajid Khan, Jalees Sherwani, Wajid Khan
Lyrics powered by www.musixmatch.com

Link