Aankh Hai Bhari Bhari (Duet Version) - From "Tum Se Achcha Kaun Hai"

आँख है भरी भरी और तुम
मुस्कुराने की बात करते हो
आँख है भरी भरी और तुम
मुस्कुराने की बात करते हो
ज़िंदगी खफ़ा खफ़ा और तुम
दिल लगाने की बात करते हो
आँख है भरी भरी और तुम
मुस्कुराने की बात करते हो

मेरे हालात ऐसे हैं
के मैं कुछ कर नहीं सकती
तड़पता है ये दिल लेकिन
ये आहें भर नहीं सकता

ज़ख्म है हरा हरा और तुम
चोट खाने की बात करते हो
ज़िंदगी खफ़ा खफ़ा और तुम
दिल लगाने की बात करते हो
आँख है भरी भरी और तुम
मुस्कुराने की बात करते हो

ज़माने में भला कैसे
मुहब्बत लोग करते हैं
ज़माने में भला कैसे
मुहब्बत लोग करते हैं
वफ़ा के नाम की अब तो
शिकायत लोग करते हैं

आग है बुझी बुझी और तुम
लौ जलाने की बात करते हो
ज़िंदगी खफ़ा खफ़ा और तुम
दिल लगाने की बात करते हो
आँख है भरी भरी और तुम
मुस्कुराने की बात करते हो

कभी जो ख्वाब देखा तो
मिली परछाईयाँ मुझ को
कभी जो ख्वाब देखा तो
मिली परछाईयाँ मुझको
मुझे महफ़िल की ख्वाहिश थी
मिली तनहाईयाँ मुझको

हर तरफ़ धुआँ धुआँ और तुम
आशियाने की बात करते हो
ज़िंदगी खफ़ा खफ़ा और तुम
दिल लगाने की बात करते हो
आँख है भरी भरी और तुम
मुस्कुराने की बात करते हो
हम्म हम्म हम्म हम्म
हम्म हम्म हम्म हम्म



Credits
Writer(s): Sameer, Nadeem Shravan
Lyrics powered by www.musixmatch.com

Link