Tumhi Se Tumhi Ko Chura Lenge Hum (From "Dulaara")

तुम्हीं से तुम्हीं को चुरा लेंगे हम
तुम्हीं से तुम्हीं को चुरा लेंगे हम
लक़ीरों में अपनी बसा लेंगे हम

तुम्हें अपना सब कुछ बना लेंगे हम
तुम्हें अपना सब कुछ बना लेंगे हम
तुम्हीं से तुम्हीं को चुरा लेंगे हम

बढ़ने लगी दिल की बेचैनियाँ
पागल बनाएँ ये नज़दीकियाँ

हाँ, बढ़ने लगी दिल की बेचैनियाँ
पागल बनाएँ ये नज़दीकियाँ
क़रीब आके साँसों में घुल जाओ तुम
ना रह जाए दूरी कोई दरमियाँ
कोई दरमियाँ

हर एक फ़ासले को मिटा देंगे हम
हर एक फ़ासले को मिटा देंगे हम
लक़ीरों में अपनी बसा लेंगे हम

तुम्हें अपना सब कुछ बना लेंगे हम
तुम्हीं से तुम्हीं को चुरा लेंगे हम

ख़ुमारी ये कैसी? ये कैसा नशा?
ये क्या हो गया है, मुझे क्या पता

हाए, ख़ुमारी ये कैसी? ये कैसा नशा?
ये क्या हो गया है, मुझे क्या पता
ये अरमान कैसे पिघलने लगे?
कभी ना हुआ जो अब हो रहा
अब हो रहा

तुम्हें धड़कनों में छुपा लेंगे हम
तुम्हें धड़कनों में छुपा लेंगे हम
लक़ीरों में अपनी बसा लेंगे हम

तुम्हीं से तुम्हीं को चुरा लेंगे हम
तुम्हीं से तुम्हीं को चुरा लेंगे हम
लक़ीरों में अपनी बसा लेंगे हम

तुम्हें अपना सब कुछ बना लेंगे हम
तुम्हीं से तुम्हीं को चुरा लेंगे हम



Credits
Writer(s): Malik Rani, Nikhil Vinay
Lyrics powered by www.musixmatch.com

Link