Maahi (From "Raaz - The Mystery Continues") - 130 BPM

तुझे मिलके लगा है ये
तुझे ढूँढ रहा था मैं
तुझे मिलके लगा है ये
तुझे ढूँढ रहा था मैं

तुझमें है कुछ ऐसी सुबह सा
जिसकी खातिर मैं था जगा सा
आ तू मेरे ख्वाब सज़ा जा रे
माही आजा रे माही आजा रे

तुझमें है कुछ ऐसी सुबह सा
जिसकी खातिर मैं था जगा सा
आ तू मेरे ख्वाब सज़ा जा रे

दिल रोए या इलाही, तू आजा मेरे माही
दिल रोए या इलाही, तू आजा मेरे माही
दिल रोए या इलाही, तू आजा मेरे माही

मेरे माही मेरे माही
तू आजा मेरे माही

तुझे मिलके लगा है ये
तुझे ढूँढ रहा था मैं
तुझे मिलके लगा है ये
तुझे ढूँढ रहा था मैं
तुझमें है कुछ ऐसी सुबह सा
जिसकी खातिर मैं था जगा सा
आ तू मेरे ख्वाब सज़ा जा रे
दिल रोए या इलाही, तू आजा मेरे माही
दिल रोए या इलाही, तू आजा मेरे माही
मेरे माही मेरे माही तू आजा मेरे माही
दिल रोए या इलाही तू आजा मेरे माही



Credits
Writer(s): Sayeed Quadri, Uves Akram, Sharib Sabri
Lyrics powered by www.musixmatch.com

Link