Manchala (From "Hasee Toh Phasee")

कभी गर्दिशों का मारा, कभी ख्वाहिशों से हारा
रूठे चाँद काहे चकोर?
ज़रा से भी समझौते से ये परहेज रखता है क्यूँ?
माने ना कभी कोई ज़ोर

दुनिया जहाँ की, बंदिशों की ये कहाँ परवाह करे
जब खींचे तेरी डोर, खींचे तेरी डोर

मनचला, मन चला तेरी ओर
मनचला, मन चला तेरी ओर
खामोशियों की सूरतों में
ढूँढे तेरा शोर, ढूँढे तेरा शोर

मनचला, मन चला तेरी ओर (चला तेरी ओर)
मनचला, मन चला तेरी ओर

रूखी-सूखी दिल की है ज़मीं, जाने कहाँ गुम हुई नमी
मेरी उम्मीद है तेरी बारिशें
ये सहे कई बार प्यार के, तुझे हर बार हार के
सीखे फिर भी कभी नहीं साज़िशें

हो, तेरे लिए आज खुद से ही भागे है
हिम्मत के टुकड़े बटोर
हो, भागे ज़माने से छुप के दबे पाँव
जैसे कोई चोर, जैसे कोई चोर

मनचला, मन चला तेरी ओर
मनचला, मन चला तेरी ओर
खामोशियों की सूरतों में
ढूँढे तेरा शोर, ढूँढे तेरा शोर

मनचला, मन चला तेरी ओर
मनचला, मन चला तेरी ओर
मनचला, मन चला तेरी ओर
मनचला, मन चला तेरी ओर



Credits
Writer(s): Vishal Dadlani, Amitabh Bhattacharya, Shekhar Hasmukh Ravjiani
Lyrics powered by www.musixmatch.com

Link