Jeeta Hoon Jiske Liye

Ramdin, ये piano कौन बजा रहा है? ah! तुम?
बंद करो इसे, मैं कहती हूँ बंद करो इसे
मैं प्यार नहीं करती तुमसे
हमारे बीच अब कुछ नहीं रहा
हमारे बीच कुछ नहीं रहा?

क्या हक़ है तुम्हें मेरे ही घर में
घुस के मुझे सताने का?
तभी तो तुम तक मेरा जुनून
मेरे प्यार का पागलपन पहुँचेगा

जीता हूँ जिसके लिए, जिसके लिए मरता हूँ
जीता हूँ जिसके लिए, जिसके लिए मरता हूँ
बस तू ही वो लड़की है जिसे मैं प्यार करता हूँ
बस तू ही वो लड़की है जिसे मैं प्यार करता हूँ

जीता हूँ जिसके लिए, जिसके लिए मरता हूँ
बस तू ही वो लड़की है जिसे मैं प्यार करता हूँ
बस तू ही वो लड़की है जिसे मैं प्यार करता हूँ

तेरी ही चर्चा, तेरी ही बातें
लब पे तेरा नाम है, लब पे तेरा नाम है
दिलबर, क़सम से, तेरे ही दम से
मेरी सुबह शाम है, मेरी सुबह शाम है

हमारी वफ़ा के गवाह हैं ज़मीं-आसमाँ

बस तू ही वो लड़का है जिसे मैं प्यार करती हूँ
बस तू ही वो लड़की है जिसे मैं प्यार करता हूँ

मेरी बहारें, मेरी मोहब्बत
तू है मेरी आरज़ू, तू है मेरी आरज़ू
देखूँ जिसे मैं आँखों में भर के
है वो हसीं ख़्वाब तू, है वो हसीं ख़्वाब तू

मैं कैसे जियूँगी तेरे बिन? तू है मेरी जाँ

बस तू ही वो लड़की है जिसे मैं प्यार करता हूँ
बस तू ही वो लड़का है जिसे मैं प्यार करती हूँ

जीती हूँ जिसके लिए, जिसके लिए मरती हूँ
बस तू ही वो लड़का है जिसे मैं प्यार करती हूँ
बस तू ही वो लड़की है जिसे मैं प्यार...



Credits
Writer(s): Sameer
Lyrics powered by www.musixmatch.com

Link