Rama Nama Mahima

राम नाम महिमा की कथा सुनाते हैं
राम रूप मन में हनुमान दिखाते हैं

राम नाम महिमा की कथा सुनाते हैं
राम रूप मन में हनुमान दिखाते हैं
(राम-राम, जय राम-राम, जय राम-राम, जय राजा राम)
(राम-राम, जय राम-राम, जय राम-राम, जय राजा राम)

श्री राम के चरणों में बारंबार नमन करते
सुग्रीव के दुख की व्यथा श्री राम से हनुमत कहते
अति बलशाली बाली का वध राम जी हैं उस क्षण कर दें
चारों ओर सीता की खोज में वानर वीर निकल पड़ते

ढूँढते पहुँचे बजरंगी
लंका में थी जानकी
पहले करते माँ को प्रणाम
फिर देते मुंदरी हनुमान

राक्षस सारे हनुमत पूँछ में आग लगा देते
फिर हनुमान जी बिजली बनकर लंका जला देते

राम नाम महिमा की कथा सुनाते हैं
राम रूप मन में हनुमान दिखाते हैं
(राम-राम, जय राम-राम, जय राम-राम, जय राजा राम)
(राम-राम, जय राम-राम, जय राम-राम, जय राजा राम)

अंतहीन सागर के ऊपर वानर सेतु बनाते
छोटी गिलहरी जैसे जीव भी योगदान हैं देते
आरंभम्, प्रारंभम्, संग्रामम् समरंभम्, राम रावण का युद्ध हुआ
मेघनाद की दिव्य शक्ति से मूर्छित हुए, गिरे लक्ष्मण

प्राणों से प्यारे भाई को देख राम रोते
शोक में डूबे माँ की भांति, रोए पितृ जैसे
गगन सितारे डरते सारे, हनुमत लाते औषधि पर्वत
संजीवनी लाए, लखन जिलाए, बने राम सुत प्यारे हनुमत

राम नाम महिमा की कथा सुनाते हैं
राम रूप मन में हनुमान दिखाते हैं
(राम-राम, जय राम-राम, जय राम-राम, जय राजा राम)
(राम-राम, जय राम-राम, जय राम-राम, जय राजा राम)

कुंभकर्ण संहार, मेघनाद संहार
सुनके रावण चकित हुआ
ये देखो, राम-बाण है देखो
रावण अंत तक है देखो
वो देखो सुदर्शनं वही, वही शिवं त्रिशूलं

काट के वह दसकंध नाभि में जाके लगा
गिर गया वो धरती पर दैत्य सितारा
राम उसे फिर मोक्ष देते बन तारणहारा

राम नाम महिमा की कथा सुनाते हैं
राम रूप मन में हनुमान दिखाते हैं
(राम-राम, जय राम-राम, जय राम-राम, जय राजा राम)
(राम-राम, जय राम-राम, जय राम-राम, जय राजा राम)

पतित पावनी जानकी हैं
पति ने माँगी अग्नि परीक्षा
राम ने सिया को उपहार दिया
या नारी का अपमान किया

आग की जलती लपटों में सीता बन गई है समीधा
तब भी देव की ज्योति में सिद्ध हुई सिय पवित्रता

धरती के ऊपर नील मेघ जैसे
अंबर में उड़ा पुष्पक यान है

सत्य पर आँच है आया ऐसे
धर्म का चक्र चला है जैसे
रावण का भय मिट गया सारा
राम राज्य है अब तो आया

राम-राम रघुनाथ प्रभु जी, रावण संघारक रघुवीर
नाम जपो आशीष मिले, प्रभु, रमा रमण नारायणा

राम-राम रघुनाथ प्रभु जी, रावण संघारक रघुवीर
नाम जपो आशीष मिले, प्रभु, रमा रमण नारायणा
राम-राम रघुनाथ प्रभु जी, रावण संघारक रघुवीर
नाम जपो आशीष मिले, प्रभु, रमा रमण नारायणा



Credits
Writer(s): Mishra Kiran, Tiwari Dharmesh
Lyrics powered by www.musixmatch.com

Link