Kya Karoon?

क्या करूँ हौले-हौले जो मेरा दिल गा रहा है?
क्या करूँ धीमे-धीमे से नशे में जो है ज़िंदगी?
क्या करूँ धीरे-धीरे मैं बहका जा रहा हूँ?
क्या करूँ थोड़ा-थोड़ा तो असर होना है मुझपे भी?

क्या करूँ सोए-सोए से कई अरमाँ हैं जो जागे?
क्या करूँ खोई-खोई सी है कहीं राहों में ज़िंदगी?
क्या करूँ नए-नए सपने हैं मेरे आगे?
क्या करूँ थोड़ा-थोड़ा तो असर होना है मुझपे भी?

क्या करूँ?

ये दिन, ये रातें, ये सारी बातें
महके-महके, बहके-बहके
ये जो पल हैं ये ना बीते, यूँ ही मैं रहूँ

क्या करूँ हौले-हौले जो मेरा दिल गा रहा है?
क्या करूँ धीमे-धीमे से नशे में जो है ज़िंदगी?
क्या करूँ धीरे-धीरे मैं बहका जा रहा हूँ?
क्या करूँ थोड़ा-थोड़ा तो असर होना है मुझपे भी?

क्या करूँ?

क्या करूँ?



Credits
Writer(s): Javed Akhtar, Shankar Mahadevan, Ehsaan Noorani, Aloysuis Peter Mendonsa
Lyrics powered by www.musixmatch.com

Link